रोहित शर्मा
Home Biography रोहित शर्मा जीवनी (Rohit Sharma Biography)

रोहित शर्मा जीवनी (Rohit Sharma Biography)

Rohit Sharma Biography

जी हां दोस्तो आज हम भारतीय क्रिकेट टीम के धाकड़ बल्लेबाज रोहित शर्मा के बारे में आपको जानकारी देंगे, जो की भारतीय क्रिकेट टीम के एक खतरनाक बल्लेबाज है और ओपनर है ।

तो दोस्तो चलिए आज हम इस आर्टिकल में रोहित शर्मा के बारे में जानकारी हासिल करते है ।

रोहित शर्मा (Rohit Sharma) का करियर

फिलहाल रोहित शर्मा Indian Cricket Team के एक भारतीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर हैं जो की वर्तमान में भारतीय ODI और T20 टीमों के उप कप्तान भी है । Rohit Sharma, IPL में मुंबई इंडियंस  टीम के कप्तान भी है । Rohit Sharma एक दाएं हाथ के धाकड़ बल्लेबाज है जो अपने हार्ड हिटिंग क्षमता के लिए हिट-मैन के रूप में भी जाना जाता है ।

Rohit Sharma ने एकदिवसीय मैचों में तीन दोहरे शतक का रिकॉर्ड बना रखा है । इनका यह रिकॉर्ड आज तक कोई भी क्रिकेटर तोड़ नही पाया है ।

20 साल की उम्र में रोहित शर्मा ने अपने करियर की शुरुआत करि थी । जल्द ही उन्होंने अपने शांत और परिपक्व प्रदर्शन के लिए प्रशंसा अर्जित कर ली । हालांकि, एक खुरदुरे पैच और असामयिक चोट ने उनके शुरुआती करियर के दौरान उनके टेस्ट डेब्यू को एकदिवसीय मैच तक ही रोक दिया था ।

2008 में जब IPL का शुरुवात हुयी, तब रोहित सिर्फ एक बल्लेबाज के रूप में खेलते थे । जो वक़्त के साथ और अनुभव ने उन्हें एक कप्तान के रूप में भी अच्छी खासी अपना नाम कमा लिया ।

ओपनिंग स्थान पर खेलने के बाद उन्होंने सीमित ओवरों में अपने खेल का स्टर और बड़ा लिया । टेस्ट डेब्यू में देरी के बावजूद, उन्होंने अपने पहले दो मैचों में एक के बाद एक शतकों के साथ शानदार प्रदर्शन किया और अपने बल्लेबाजी का एक नमूना पेस किया ।

रोहित शर्मा (Rohit Sharma)  का बचपन और प्रारंभिक जीवन

Rohit Sharma का पूरा नाम Rohit Gurunath Sharma है । इनका जन्म 30 अप्रैल 1987 को बंसोड़, नागपुर, महाराष्ट्र में हुआ ।

रोहित के पिता का नाम गुरुनाथ शर्मा है जो की एक ट्रांसपोर्ट फर्म में स्टोरहाउस के कार्यवाहक थे । रोहित की माँ का नाम पुरीमा शर्मा है । चूंकि उनके पिता की कमाई रोहित और उनके छोटे भाई विशाल को पालने के लिए अपर्याप्त थी, इसलिए उन्होंने रोहित को दादा-दादी और चाचाओं के साथ पश्चिमी मुंबई बोरीवली में भेज दिया ।

रोहित वही पले-बढ़े हुए और हर सप्ताहांत में अपने माता-पिता से मिलने जाते थे।

आठ साल की उम्र में, उन्हें क्रिकेट में दिलचस्पी हो गई और उन्होंने अपने चाचा को 200 रुपये देने के लिए मनाया । उन पैसो से रोहित ने एक कोचिंग शिविर में भाग लिया । अपनी क्षमता को अच्छा करने के लिए बाद में स्वामी विवेकानंद इंटरनेशनल स्कूल से कोचिंग करने चले गए । यही से एक बल्लेबाज के रूप में ओपनिंग के लिए रोहित को प्रोत्साहित किया गया ।

बाद में उन्होंने हैरिस और जाइल्स शील्ड स्कूल क्रिकेट टूर्नामेंट के दौरान सलामी बल्लेबाज के रूप में अपने पदार्पण पर शतक बनाया ।

रोहित शर्मा के घरेलू क्रिकेट कैरियर

अपने घरेलू क्रिकेट में रोहित शर्मा ने मार्च 2005, ग्वालियर में सेंट्रल-ज़ोन के खिलाफ देवधर ट्रॉफी से पदार्पण किया था । उसी टूर्नामेंट के दौरान, उन्होंने उदयपुर में नॉर्थ-ज़ोन के खिलाफ 123 गेंदों में नाबाद 142 रन बनाकर सभी का ध्यान अपने तरफ आकर्षित किया था ।

उसके बाद Rohit Sharma को एनकेपी साल्वे चैलेंजर ट्रॉफी के लिए चुना गया था । उनकी रणजी की शुरुआत से पहले ही चैंपियंस ट्रॉफी के लिए 30 संभावितों की सूची में चुन लिया गया था । लेकिन अंतिम टीम में जगह बनाने में असफल रहे थे Rohit Sharma ।

भारत क्रिकेट टीम के लिए  Rohit Sharma पहला पदार्पण जुलाई 2006 में डार्विन में न्यूजीलैंड ए के खिलाफ था । उसके बाद 2006-07 सीज़न में मुंबई के लिए रणजी की शुरुआत हुई । जिसके दौरान उन्होंने गुजरात के खिलाफ दोहरा शतक भी बनाया और एक बार फिर अपने शानदार बल्लेबाजी का सबूत दिया ।

रोहित शर्मा (Rohit Sharma) का अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर

रोहित शर्मा ने 2007 में बेलफास्ट में आयरलैंड के खिलाफ से एकदिवसीय क्रिकेट में अपना पदार्पण किया । पर मैच में उन्हें बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला था ।

उसके बाद उसी वर्ष, 20 सितंबर, 2017 को आईसीसी विश्व ट्वेंटी 20 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 40 गेंदों में नाबाद 50 रन बनाकर भारत को जीत दिलाये । जिसके लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार भी अर्जित हुआ और अपने बल्लेबाजी का एक बेहतर सबूत पूरी दुनिया के समक्ष दिया ।

Rohit Sharma को 2007-08 कॉमनवेल्थ बैंक सीरीज के लिए भी चुना गया था । जिसमे 18 नवंबर 2007 को जयपुर में पाकिस्तान के खिलाफ अपना पहला वनडे अर्धशतक जड़ा ।

फिर ऑस्ट्रेलिया में, Rohit Sharma ने भारत के सफल रन चेज के दौरान सिडनी में पहले फाइनल में 66 सहित दो और अर्धशतक बनाए दिए थे ।

बाद में अपने खराब प्रदर्शन की वजह से उन्हें टीम में जगह नहीं मिली । यहां तक कि रणजी में तिहरा शतक भी उनके 2009 भारत-बांग्लादेश दौरे में अपनी जगह प्लेइंग इलेवन में नहीं दिला सका । वह अपने टेस्ट डेब्यू के अवसर का उपयोग करने में पूरी तरह से विफल रहे थे ।

बाद में मई 2010 में उन्हें 2011 विश्व कप के लिए भारतीय टीम में जगह दी गयी थी । 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ उनकी वापसी पर, उन्होंने दो अर्धशतकों के लिए पहली बार मैन ऑफ द सीरीज का सम्मान हासिल किया था । जिसमें भारत के 92-6 से पिछड़ने के बाद 91 गेंदों पर 86 रन बनाए ।

उनका अच्छा फॉर्म को देखते हुए उन्हें 2013 चैंपियंस ट्रॉफी में शिखर धवन के साथ ओपन करने के लिए कहा गया । जिसके बाद दोनों ने एक असाधारण तालमेल बनाया और भारत को कई श्रृंखला जीत दिलाई ।

व्यक्तिगत स्तर पर, उन्होंने बैंगलोर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 158 गेंदों पर 209 रन बनाए और 16 छक्कों के साथ एक वनडे पारी में सर्वाधिक छक्के लगाने का विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिया ।

उन्होंने अंततः नवंबर 2013 में सचिन तेंदुलकर की विदाई टेस्ट श्रृंखला के दौरान अपना टेस्ट डेब्यू किया । वह मोहम्मद अजहरुद्दीन और सौरव गांगुली के बाद तीसरे भारतीय बल्लेबाज बने जिन्होंने डेब्यू के बाद एक के बाद एक दो शतक बनाए ।

2014 में श्रीलंका के खिलाफ उन्होंने 264 की बेहतरीन वनडे पारी खेली । यह पारी एक रिकॉर्ड है क्योंकि यह वनडे में किसी खिलाडी का सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर था ।

2008 के आईपीएल में रोहित शर्मा को डेक्कन चार्जर्स फ्रैंचाइज़ी में चुना था । जिसके दौरान उन्होंने कुछ समय के लिए प्रमुख रन-स्कोरर के रूप में ऑरेंज कैप जीती थी ।

मुंबई इंडियंस से वह बाद में जुड़े । 2011 सीज़न और टीम ने उनकी कप्तानी में 2013 सीज़न के दौरान अपना पहला आईपीएल जीता । उसके बाद 2015 और 2017 में दो और जीत हासिल की । मुंबई रणजी टीम का भी उन्हें अजीत अगरकर की सेवानिवृत्ति के बाद कप्तान चुना गया ।

दिसंबर 2017 में, कप्तान विराट कोहली के आराम के साथ, उन्हें श्रीलंका श्रृंखला के लिए भारतीय टीम का कप्तान नामित किया गया था जिसमे कप्तान के रूप में वनडे और टी 20 श्रृंखला में उन्हें जीत दर्ज हुयी थी ।

रोहित शर्मा की उपलब्धियां

  1. Rohit Sharma को 2015 में भारत सरकार से अर्जुन पुरस्कार मिला है ।
  2. उन्होंने तीन एकदिवसीय दोहरे शतक बनाए हैं, जो किसी भी खिलाड़ी द्वारा अधिकतम है, जिसमें श्रीलंका के खिलाफ उनके 264 शामिल हैं जो उनके तीन दोहरा शतको में से सबसे बड़ा स्कोर है ।
  3. 2 अक्टूबर 2015 को, वह सुरेश रैना के बाद दूसरे भारतीय क्रिकेटर बने, जिन्होंने खेल के सभी प्रारूपों में शतक बनाए ।
  4. उन्होंने मुंबई इंडियंस की टीम को चार बार आईपीएल ट्राफियां दिलाई ।  वह आईपीएल में हैट्रिक भी ले चुके हैं और ऐसा करने वाले पांचवें खिलाड़ी बन गए हैं ।

रोहित शर्मा  (Rohit Sharma) उर्फ ​​”हिटमैन” के बारे में कुछ अज्ञात तथ्य

1) Rohit Sharma एक बहुत गरीब परिवार से है । उनके पिता एक ट्रांसपोर्ट कंपनी में काम करते थे और माँ एक गृहिणी थीं ।

2) जब रोहित शर्मा के पिता गुरुनाथ शर्मा की एक ट्रांसपोर्ट कंपनी में नौकरी चली गई, तो परिवार की जिम्मेदारी बहुत कम उम्र में रोहित के कंधों पर आ गया था । वह उस समय इंडियन ऑयल में काम किया करते थे ।

3) Rohit Sharma के मां कभी नहीं चाहती थीं कि वह क्रिकेटर बनें । वह चाहती थी कि वह अच्छे से पढ़ाई करे परंतु Rohit Sharma को तो क्रिकेटर बनना था ।

4) Rohit Sharma ने धाराप्रवाह चार भाषाओं- अंग्रेजी, हिंदी, मराठी और तेलुगु में बातचीत कर सकते हैं ।  आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम से माँ तलूक रखती है ।

5) Rohit Sharma  ने अपने करियर की शुरुआत एक ऑफ स्पिनर गेंदबाज के रूप में की थी । मुंबई टीम के कोच दिनेश लाड ने एक क्रिकेटर के रूप में रोहित की क्षमता को समझा और उन्हें बल्लेबाज बनाया ।

6) Rohit Sharma कभी भी पहले आर्थिक रूप से स्थिर नहीं थे । इसलिए, उनकी क्रिकेटिंग क्षमता के कारण उन्हें उनके स्कूल में छात्रवृत्ति दी गई थी ।

7) Rohit Sharma ने एक बार अपनी बल्लेबाजी के आदर्श भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग से मिलने के लिए स्कूल बंक किया था ।

8) शाकाहारी होने के बावजूद रोहित शर्मा अंडे के बहुत शौकीन हैं लेकिन अपने घर के बाहर ही खाते हैं ।  एक बार उनके दोस्त ने उन्हें 45 अंडे खाने की चुनौती दी और उन्होंने आसानी से चुनौती जीत ली ।

9) Rohit Sharma टी 20 में शतक बनाने वाले पहले भारतीय थे ।

उम्मीद करते है आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

भगत सिंह (Bhagat Singh) – क्रांति का दूसरा नाम शहीद भगत सिंह

“बम और पिस्तौल से क्रांति नहीं होती है अपितु क्रांति की तलवार विचारों के पत्थर पर ते…