Home Hindi बंद करो बाल श्रम

बंद करो बाल श्रम

कहा गये वो सुंदर फूल

कहा गई वो मुस्कान

कहा उड़ गई सारी धुल

क्यों चुप हो गए गाने

 

झूले अब थम से गए

पिता खड़ा खामोश है

मेंदान भी जम से गए

हर घर आगन मदहोश है

 

बहुत ढूँढा तो पता चला कि

वो सब बच्चे वहा है

जहा पर खुशिया बेरंग है

बचपन जीना मना है

वहा बच्चो से बंगले बनवाये जाते है

चुड़ीयाँ, कंगन, बीडी भी बनवाई जाती है |

यही सही वक्त है कुछ करने का, कुछ बदलने का,

क्योकि कोमल बच्चे जूझ रहे है

कष्ट भरे अंगारों में, और रोते है अंधरे में

 

बंद करो ये बाल श्रम

बच्चो का यह क्रूर समझोता

नहीं रहगा कोई भी बच्चाइसकी आड़ में अब रोता

बंद करो बाल श्रम

6 Comments

  1. Pingback: kalamaj
  2. Its really very ininspiring there is really need to change the world
    I love this poem so much
    From my depth of my heart i thanks to poet of this poem

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

सपने में खुद को देखना।

दुनिया में लोग सोते वक्त तरह तरह के सपने देखते है। सोते वक्त सपने देखना कोई गलत बात नही है…