Home Hindi सबसे कीमती

सबसे कीमती

एक बार रानी से कुछ गलती हो गई | बादशाह अकबर ने उन्हें क्रोध में आदेश दिया, “में चाहता हूँ की तुम चोबीस घंटे के अंदर राजमहल छोडकर चली जाओ | चाहे तो अपने साथ अपनी सबसे कीमती वस्तु ले जा सकती हो |”

रानी बहुत घबरा गई | ऐसे में उन्हें बीरबल ही एकमात्र सहारा नजर आया, इसलिए वह तुरंत मदद के लिए बीरबल के पास पहुची| बीरबल ने उनकी समस्या सुनी और बहुत सोच-विचर कर उन्हें एक योजना समझाई | उस योजना के अनुसार अपने कक्षमें आकर रानी ने अपनी सेविका को जल्दी ही अपना सामान बाधने के निदेश दिए | सब तेयारी जल्दी ही पूर्ण होने पैर रानी ने बादशाह को बुलवाया | बादशाह के आने पर वह बोली, “क्या आप हमारे हाथ से एक गिलास शरबत पि सकते है?”

बादशाह तेयार हो गए | रानी ने शरबत में नीद की दवा मिला गी थी | शरबत पिटे ही बादशाह गहरी नीद में सो गए | तब रानी ने सेनिको से पालकी मंगाकर बादशाह अकबर को उसमे लिटा दिया | फिर अपने सामान और बादशाह अकबर के साथ राजमहल छोड़ क्र अपने पिता के घर चली गई |

वंहा पहुचकर बादशाह को उन्होंने पलंग पर लिटा दिया | बादशाह अब तक नीद में थे | जब रानी के पिता ने उनसे इस सब का कारण पूछा तो उन्होंने उन्हें कुछ देर प्रतिक्षा करने को कहा | कुछ घंटो के पश्चात बादशाह की नीद खुली | उन्होंने अपने आस – पास देखा | रानी को उन्होंने खिड़की के पास खड़े पाया |

“में यहाँ क्या कर रहा हु?” में किस प्रकार तुम्हारे पिता के घर पहुंचा?” बादशाह ने गुस्से में कहा |

“महाराज, नाराज मत होइए, आपने मुझे अपनी सबसे कीमती वस्तु के साथ महल से जाने को कहा था | आपसे अधिक कीमती तो मेरे लिए कुछ भी नहीं है | इसलिए में आपको अपने साथ ले आई|”

रानी के शब्दों को सुनकर बादशाह अकबर मुस्कराए और बोले, “प्रिय, तुमने बहुत चतुराई से यह योजना बनाई है |”

“नहीं….नहीं, महाराज,” रानी ने सफाई देते हुए कहा |

“यह योजना मेरी नहीं थी, मुझे तो बीरबल ने ऐसा करने के लिए कहा था |”

“अच्छा तो इस सब के पीछे भी बीरबल का हाथ है | एक बार फिर तुम्हारे जरिए उसने हमे मात दे दी | अच्छा अब चलो राजमहल वापस चलते है |” फिर बादशाह और रानी वापस महल चले आए | इस बार बीरबल को उसकी इस बुद्धिमता के लिए पुरस्क्त किया गया |

Check Also

भारत में शीर्ष 10 शैम्पू ब्रांड की सूचि

क्या आप भी उन लोगों में से हैं जो बालों की समस्याओं से पीड़ित हैं? या .. क्या आप भी प्रदुष…