Home Hindi खत्म न होने वाली कहानी

खत्म न होने वाली कहानी

अरब देश में एक सुलतान रहता था उसे कहानिया सुनने का बड़ा शोक थे | वह चाहता था की दिन रात बस कहानिया ही सुनते रहे |

एक दिन उसने अपने वजीर की बुलाकर कहा, “में एक ऐसी कहानी सुनना चाहता हु जो कभी ख़त्म न हो | क्या तुम मुझे ऐसी कहानी सुना सकते हो क्या?”

यह बात सुनकर वजीर थोडा सा घबरा गया | ऐसी कहानी वह भला कहा से लाकर सुनाए जो खत्म ही न हो | उसे कुछ सुझाई न दिया | उसने सुलतान से कहा, “महाराज, मुझे एक दिन की मिह्ल्ट दीजिए |

सुलतान ने कहा, “ठीक है”

वजीर अपने घर पहुचा और अकेला बेठ कर सोचने लगा | उसे न तो भूख लग रही थी और न ही प्यास | उसने सोना चाह तो नीद भी न आई | उसे बस रक ही चिंता सता रही थी | की कल सुलतान की क्या जवाब देगा |

वजीर के बेगम से उसकी यस परेशानी देखी न गई | उसने पूछा, “क्या बात है आप इतने परेशान क्यों है?”

वजीर ने अपनी परेशानी का कारण बताया तो वह हंस पड़ी और बोली, “बस इतनी सी बात है | आप बिना वजह परेशान हो रहे है | में सुलतान की कभी ख़त्म न होने वाली कहानी सुनाउगी | आप इत्मीनान से सो जाइए और चिंता छोड़ दीजिए |”

अगले दिन वजीर ने सुलतान को बताया, “मालिक मेरी बेगम को एक ऐसी कहानी आती है जी कभी खत्म न हो | आप इजाजत गे तो कल उन्हें अपने साथ ने आऊ |”’

“सुलतान ने कहा, “ठीक है कल तुम अपनी बेगम को अपने साथ ले आना” |

दुसरे दिन वजीर अपनी बेगम को लेकर हाजिर हो गया | वजीर की बेगम ने सुलतान के सामने एक शर्त रखी | उसने कहा, “हुजुर, जब तक मेरी कहानी खत्म न हो जाए, आप अपनी जगह से उठेगे नहीं |”

मंजूर है, सुलतान ने कहा |

वजीर की बेगम से कहानी शरू की, “चावल का एक गोदाम था – भरा हुआ | हवा और रौशनी के लिए उसमे एक छोटा सा रोशनदान था | एक चिड़िया उस रोशनदान से गोदाम ने घुसती और चावल का दाना लेकर हो जाती फुर्र………..| फिर आती और चावल का दाना लेकर उड़ जाती फुर्र………..फुर्र |”

वजीर की बेगम बस यही दोरहती रही, “चिड़िया उस रोशनदान से गोदाम ने घुसती और चावल का दाना लेकर हो जाती फुर्र……….फुर्र | यह सुन-सुनकर सुलतान परेशान हो उठा और बोला, “ यह फुर्र ……फुर्र क्या लगा रखी है? कहानी को आगे बढ़ओ |”

वजीर की बेगम बोली, “हुजुर, गोदाम के चावल जब तक ख़त्म नहीं होगे, कहानी आगे कैसे बढ़ेगी ?”

सुलतान शर्त के मुताबिक अपनी जगह से उठ भी नहीं सकता था | वह वजीर की बेगम की चुतराई को समझ गया | आख़िरकार उसने अपनी हार मान ली और वजीर की बेगम को अच्छा इनाम भी दिया |

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

भारत में शीर्ष 10 शैम्पू ब्रांड की सूचि

क्या आप भी उन लोगों में से हैं जो बालों की समस्याओं से पीड़ित हैं? या .. क्या आप भी प्रदुष…