Home Hindi चिंपू और चींची

चिंपू और चींची

किसी जंगल में एक बहुत बड़ा पेड़ था | उस पेड़ पर एक बंदर रहता था | उसका नाम चिंपू था | वह हमेशा सबसे लड़ता और उनका नुकसान करता था | उसी पेड़ पर एक चिड़िया भी रहती थी | उसका नाम चींची था | वह एक समय मीठे मीठे गीत गाती थी | गरमी का मोसम चला गया और बरसात का मोसम आ गया | चींची ने बरसात आने से पहले ही अपना घोंसला बला लिया था |

आकाश में काले – काले बादल आकर गरजने लगे | मोर नाचने लगे | देखते – ही – देखते बरसात होने लगी | बारिश के जल से जंगल की मिटटी महक उठी | धीरे – धीरे बारिश और तेज हो गई | चींची अपने घोसले में दुबककर बेठ गई | चिंपू बेचारा पेड़ पर बेठा – बेठा भीगता रहा | चिंपू को भीगता देख चींची हसने लगी |

हँसते – हँसते उसने चिंपू से कहा – अरे, मामा जी | आपसे मेने पहले ही कहा था, अपने लिए घर बना लो, लेकिन मेरी बात नहीं सुनी | अब भीगते रहिए | भगवान ने आपको दो हाथ दिए है | मुझे देखो मेरे पास तो हाथ भी नहीं है | फिर भी मेने अपनी चोंच से यह घोंसला बनाया | चाहते तो आप भी अपने लिए एक घर बना सकते थे |

चिंपू बोला – “ देखो, मुझे सीख मत दो | तुम चुप हो जाओ |” चींची ने कहा – “देखिए आप मुझे से बहुत बड़े है | आपके हाथ, पैर, सिर, कान, नाक सब कुछ इंसानों जैसा है | आप मुझसे अधिक ताकतवर भी है | यदी आपने समय रहते अपने लिए घर बना लिया होता टी, आज मजे से उसमे बेठे होते | अब भीगते रहिये, मुझे क्या |”

चींची की बात सुनकर चिंपू नाराज हो गया | वह जोर से बोला – “ मेने तुझे मना किया था की मुझे सीख मत दे, लेकिन तू नहीं मानी | मेरी बहुत हंसी उड़ा रही है | में तुझे अभी मजा चखाता हु |” यह कहकर चिंपू ने चींची का घोसला तोडकर फेक दिया |

सीख: समझाओ उसे जो समझना चाहे|

Check Also

भारत में शीर्ष 10 शैम्पू ब्रांड की सूचि

क्या आप भी उन लोगों में से हैं जो बालों की समस्याओं से पीड़ित हैं? या .. क्या आप भी प्रदुष…