Category Archives: Hindi Moral Stories

मतलबी भेड़िया

एक दिन भेड़िया मजे से मछली खा रहा था की अचानक मछली का कांटा उसके गले में अटक गया | भेड़िया दर्द के मारे चीका-चिलाया | वह इधर-उधर भागता फिरा | पर उसे चेन न मिला | उससे न खाते बनता था न पीते बनता था | तभी उसे नदी किनारे खड़ा एक सारस दिखाई […]
Posted in Hindi Moral Stories | Tagged , , | Leave a comment

चालाकी का फल

बहुत पुरानी बात है| किसी गाँव में एक व्यापारी रहता था | उसका नाम मोहन था | मोहन गाँव नहर के किनारे बसा हुआ था | वह नमक का व्यापार करता था | उसके पास एक गधा था | वह रोज एक बोरी नमक गधे पर लादकर शहर ले जाता था | रोजाना एक ही […]
Posted in Hindi Moral Stories | Tagged , , | Leave a comment

बुरी संगती से छुटकारा

श्याम दास का एक ही पुत्र था | उसका नाम रवि था | श्याम दास अपने बेटे को बहुत करता था | वह उसे हर अच्छी से अच्छी जीजे ला कर देते | हर वो जीज ला कर देता जो उसे चाहिए होती | उसकी हर मांग पूरी करता था | सिर्फ वो ही नहीं […]
Posted in Hindi Moral Stories | Tagged , , | Leave a comment

धोखे की सजा

एक बार की बात है | की व्यक्ति के जीवित रहने की उम्मीद बिल्कुल समाप्त हो गई थी | उसने भगवान से विनती की कि यदि वह जीवित बच गया तो सो बेलो की बली भगवान को देगा | और भगवान ने उसकी विनती स्वीकार कर ली तथा वह व्यक्ति ठीक होने लगा | परन्तु […]
Posted in Hindi Moral Stories | Tagged , , , | 7 Comments

कथनी और करनी

एक गरीब बुढा था | उसके कोई सन्तान नहीं थी | बुढ़ापे में उसकी देखभाल करती | अत: उसे स्वंय मेहनत – मजदूरी करके अपना पेट पालना पड़ता था |इसलिए वह रोज जंगल से लकडिया काटकर लाता तथा उन्हें शहर में बेचता था | अक्सर परेशानी में वह बुढा एक ही बात कहता, “इससे तो […]
Posted in Hindi Moral Stories | Tagged , , | Leave a comment

बेलो की नासमझी

बहुत समय की बात है, जंगल में चार बेल रहते थे | उनका आपस में बहुत प्रेम था | वे आपस में घूमते, साथ खाते पीते और कभी भी झगड़ा नहीं करते थे | उसी जंगल में शेर भी रहता था | बेलो को देखकर वह उन्हें खाने के लिए नए नए उपाय करता, ताकि […]
Posted in Hindi Moral Stories | Tagged , , , | Comments closed

खरगोश और कछुआ

बहुत पुरानी बात है | एक गाँव था | उस गाँव के समीप एक नदी बहती थी | नदी के दूसरी तरफ घना जंगल था | उस जंगल में खरगोश रहता था | एक दिन की बात है | नदी में कही से एक बड़ा खरगोश आकर रहने लगा | खरगोश और कछुआ दोनों में […]
Posted in Hindi Moral Stories | Comments closed

समझदार बंदर

बहुत पुरानी बात है | किसी जंगल में एक बंदर रहता था | वह बहुत समझदार व् चतुर था | वह एक पेड़ से दुसरे पेड़ पर उछलता – कूदता रहता था | इस खेल में उसे बहुत अच्छा लगता था | एक बार वह जंगल घुमने निकला| घूमते हुए उसे जंगल में एक थेला […]
Posted in Hindi Moral Stories | Comments closed

पछतावे के आँसू

संजय बहुत अच्छा बच्चा था पर उसको चोरी करने की बहुत बुरी आदत थी अध्यापक महोदय उसे कई बार दंड भी दे चुके थे और कई बार धमकी भी दे चुके थे | परंतु फिर भी वो बच्चो के बस्तों से उनकी चीजे खो जाती थी | सभी का शक संजय पर ही था की […]
Posted in Hindi Moral Stories | Tagged , , , | Comments closed

भगवान सबको देखता है |

एक किसान था | उसका एक बेटा था रामू | एक दिन को बात है, किसान अपने खेत में काम कर रहा था | रामू भी वही था | पड़ोंसी के खेत में गाजर उगी हुई थी | रामू ने वहा जाकर एक गाजर खींचकर निकल ली | गाजर खींचते देख किसान अपने बेटे से […]
Posted in Hindi Moral Stories | Tagged , , | Comments closed
  • Facebook

  • Google +