जो होता है अच्छे के लिए होता है

एक बार एक सेठ अपने साथियों के साथ शिकार पर गया | वह एक हिरण के पीछे जंगल में कभी अंदर तक चला गया था और वहा जाकर हिरण उसकी आँखों के सामने से ओझल हो गया था परन्तु तब तक संध्या हो चुकी थी और वहा रास्ता भी भूल गया था | करीब करीब २-३ हफ्तों तक वह एक दुसरो को खोजते रहे | और एक दिन वो सब मिल गए और सेठ अपने पर बहुत ज्यादा क्रोधित था क्योई सब ने उसे मना किया परन्तु वह फिर भी उस हिरण के पीछे चला गया था |

परन्तु सब के मिलने पर उसके दोस्तों ने उसे समझाया और कहा “सब कुछ अच्छे के लिए होता है “ यह बात सुनकर सेठ को कुछ समझ नहीं आया वह ज्यादा दिमाग नहीं लगाना चाहता था क्योकि वह बहुत थक चूका था | कुछ दिनों बाद कुछ काम करते हुए उसकी एक ऊँगली कट गई और यह देख कर फिर उसके दोस्त ने कहा “जो हुआ अच्छे के लिए होता है “ | इस बार यह सुनते ही वो गुस्से से लाल-पिला हो गया | उसने उसे तुरंत अपने घर से निकाल दिया | इस पर भी उसने यही कहा, “जो हुआ अच्छे के लिए हुआ |”

Continue reading “जो होता है अच्छे के लिए होता है” »

सोने का कुत्ता

बहुत पुरानी बात है एक बार एक राजा ने अपनी तीनो बेटो में से किसी एक को अपना उतराधिकारी चुनने का फेसला किया और इसी के चलते उसने तीनो की परीक्षा लेने की सोची | उस राजा ने अपनेतीनो बेटो के १०० – १०० सोने की मुद्राए देकर उसने उन्हें आज्ञा दी की जो उसे एक साल के अंदर अंदर सबसे फहले सोने का कुत्ता ले कर आयगा उसे में अपना उतराधिकारी गोषित कर दुगा |

सबसे बड़े राजकुमार ने एक शहर में जा कर एक महल किराये पर लिया और अपने कुछ आदमियों को चारो दिशाओ में भेज दिया उस सोने के कुत्ते की खोज में | परन्तु सब के सब कुछ सप्ताह के बाद सभी लोग खाली हाथ आ गए | तब तक बड़े राजकुमार के सारे पैसे खत्म हो गए और वह वापिस चला गया |

वहा दूसरी तरफ दुसरे राजकुमार एक शहर में जा कर एक महाजन बनकर लोगो को सूद पर पैसे देने लगा | और जल्दी ही उसे बहुत सारे पैसे कम लिए और उसने अपने पिता को दोनों के लिए सोने का कुता बनाने के लिए सुन्हार को दे दिया |

अब बारी थी छोटे बच्चे की | वह एक शहर में गरीब समुदाय के बीच एक छोटा-सा घर लेकर रहने लगा | उसने अपना पूरा पैसा एक व्यपार में लगा दिया जिससे उसकी बहुत अच्छी कमाई हो गई की उसने बहुत से गरीब लोगो को काम पर रख लिया | उसने अपने कमाए पैसो से न सिर्फ गरीबो को काम दिया अपितु स्कुल, अस्पताल के अलावा कार्य किये | साथ ही साथ उसने गरीब लोगो को सस्ते दर पर कर्जा देना भी आरंभ कर दिया | इससे वे लोग जल्दी ही खुशहाल हो गए | बल्कि पूरा खुशहाल हो गए थोड़े दिनों में | अपने काम से संतुष्ट होकर वह अपने पिता से मिलने चल दिया |

Continue reading “सोने का कुत्ता” »

चालक पंडित

कशी पुर एक पंडित रहता था और वो बहुत गरीब था वह अपने परिवार के लिए बहुत मुश्किल से दो वक्त की रोटी का बंदोवस्त कर पाता था इसलिए उसकी पत्नी ने उसे सुझाव दिया की वह एक बार राजा से मिले और उनसे कुछ मदद मांगे | उसका सुझाव मानकर पंडित उसी दिन राजा के दरबार के लिए चल दिया | वह राजा से मिला और राजा ने उसके आने का कारण पूछा तो पंडित जी बोले, हे महाराज में सीधा केलाश पर्वत से आ रहा हु | वहा में भगवान शिव से मिला था | उन्होंने मेरे आप के लिए के संदेश भेजा है की उन्हें एक गाये की आवश्यकता है |

राजा बहुत चतुर था उसको शंका हुई | वह तुरंत समझ गया की गाय भगवान को नहीं उसे चाहिए किंतु वो सीधा मांगने से डर रहा है | राजा ने अपने मंत्री को कहा की पंडित जी के लिए गाय का बंदोवस्त किया जाए और राजा ने अपने मंत्री को कहा की पंडित जी को एक हजार स्वर्ण मुद्रए दे दे | मंर्त्री ने उसे गाय और एक हजार स्वर्ण मुद्रए दे दी | पंडित ने एक नजर में ही भांप लिया की गाये बहुत बड़ी थी | उसे देखा कर उसने नाटक किया और उसके चारो तरह घुमा और सिर झुका कर और अचानक वह अपने कान को गाये के पास ले गया | कुछ देर बाद वह सीधा खड़ा होकर राजा से बोला, महाराज, इस गाय ने मुझे अभी अभी बताया है की यह बहुत ही बूढी गाय है और यह भी कहा की इस आयु में अब वह दूध भी नहीं दे सकती और बछड़े को भी पैदा नहीं कर सकती है |

Continue reading “चालक पंडित” »

बुरी संगती का असर

महेश दसवी कक्षा में पड़ता था और बहुत बुद्धिमान बालक था वो हमेशा अवल आता था | वो पढाई के साथ साथ अपने पिता की किरणे की दुकान पर उनकी मदद करता था | उसकी कक्षा में एक अजय मन का एक धनी लडके से मित्रता हुई और उस दिन से वह पूरी तरह बदल गया | अब उसका पढाई में मन नहीं लगता था और अपने पिता की मदद भी नहीं करता था |

धीरे धीरे वह पूरी तरह से बदल गया और वह अपनी परीक्षा में भी पहली बार फेल भी हो गया | वह धनी लडके के साथ रह कर बिगढ़ गया | एक दिन वो आमिर बनने के चक्कर में आ कर अपने घर बे भाग गया और बस में जा कर बेठ गया | गाड़ी चलने के कुछ देर बाद ही गाड़ी में एक अँधा आदमी चड़ा जो वहा बेठे लोगो को मूंगफली बेचने लगा | उसे देखकर महेश को अपने अंकल की सुनाई खानी याद आ गई, जिसमे कुछ आदमियों ने एक बच्चे का अपहरण करके उसे अँधा बना दिया भीख मांगने के लिए | वह डर गया था उसे देख कर और उसने डरते – डरते उस अंधे मूंगफली वाले से पूछा, “क्या अप्प की किसी ने अँधा किया था बचपने में या फिर आप बचपन से ही अंधे हो?”

नहीं नहीं मुझे किसी ने अँधा नहीं किया और न ही बचपन से में अँधा हु, मेरी आँखे तो एक दुर्धटना से चली गई थी | परन्तु मेरा एक दोस्त है जिसको कुछ बुरे आदमियों ने अँधा कर दिया था भीख मागने के लिए | कुछ साल के बाद वह उनके चंगुल से बच निकला था और उस समय उसकी मुलुकत मुझसे से हुई और मेने उसकी मदद की और अब वह मेरी तरह मेहनत कर के दो वक़्त की रोटी कमाता है |

Continue reading “बुरी संगती का असर” »

Rabindranath Thakur Quotes

Born: May 7, 1861, Kolkata

Died: August 7, 1941, Kolkata

Nickname: Gurudev

Education: University of Calcutta

Awards: Nobel Prize in Literature

 

- कर्म कि मुक्ति आनंद में एंव आनंद कि कर्म में है |

- कलाकार प्रक्रति को प्रेमी है, अतएव् वह उसका दास भी है और स्वामी भी |

- जो मन की पीड़ा को स्पष्ट रूप में कह नहीं सकता, उसी को क्रोध अधिक आता है |

- यदि तुम भूलो को रोकने के लिए दरवाजे बंद कर दोगे, तो सत्य भी बहर रह जायगा |

- चिंता ही से चिंता दूर होती है | उस धोखे से रोकने प् प्रयास करने से परिणाम उल्टा होता है |

- मनुष्य का जीवन एक महानदी की भांति है, जो अपने बहाव द्वारा नवीं दिशाओ में अपनी राह बना लेती है |

- जिस दान में कोई लेने का संबंध नहीं, वही है अंतिम गति, वही है बहम का स्वरूप, वह लेते नहीं |

- दुसरे के दोष ढूढ – ढूढकर उनकी चर्चा करते रहने से मन छोटा बिलकुल नहीं रहती |

- प्रक्रति का धर्म है बंधन और आत्मा का धर्म है मुक्ति |

- आत्मा में परमात्मा का साक्षात्कार प्राप्त करना ही जीवन का चरम लक्ष्य है |

Continue reading “Rabindranath Thakur Quotes” »

सोच का परिणाम

बहुत पुरानी बात है एक बार नारदजी की प्रथ्वी – भ्रभन के दोरान अपने एक भक्त से मुकालात हुई | वह बहुत परेशान था अपनी पत्नी से इसलिए उसने नारदजी से प्राथना की उससे अपनी कर्कश-लड़ाकू पत्नी से बचा लो| उन्होंने उसको वादा किया और कहा ठीक है में तुम्हारी मदद करुगा परन्तु पहले में स्वर्ग जायेगे | नारदजी उसे अपने साथ ले गए और स्वर्ग के दरवाजे के बाहर बिठा दिया और खुद स्वर्ग के अंदर चले गए |

वह आदमी वहा पड़े के नीचे खड़ा ठंडी हवा खा रहा था की उसके मन में एक विचार आया की काश मेरे पास एक कुर्शी होती तो में यहाँ पेड़ के नीचे बेठ जाता | उसी समय उसके पास कुर्शी आ गुई क्योकि वह कल्पव्रक्ष के नीचे बेठा था पर इच्छा-पूर्ति के लिए प्रसिद था | कुछ देर बाद उसने सोचा “मेरे पास एक सोने का पंग होता जिस पर में सो सकता और अगले ही पल उसके पास पलंग आ गया और वो उस पर सो गया | अगले ही पल उसने सोचा काश यह कोई मेरे पैर दबा दे और देखते ही देखते वहा पर दो सुंदर अप्सराये आ गुई और उसके टांगे दबाने के लिए प्रकट हो गई |

थोड़ी देर बाद उसने अपनी पत्नी का स्मरण हो आया और उसने सोचा, “अगर मेरी पत्नी ने मुझे इन दो इस्त्रियो के साथ देख लिया तो मुझे मार ही डालेगी |” और उसी समय वहा उसकी पत्नी प्रकट हो गई एक मोटे डंडे के साथ | जैसे ही उसने अपनी पत्नी को देखा, वह पुरु जोर से उठ कर वहा से भागने लगा | यह देख कर उसकी पत्नी भी उसके पीछे पीछे हो ली |

Continue reading “सोच का परिणाम” »

सिखों के पहले गुरु – गुरु नानक देव जी – Part 1

गुरु नानक देव जी का जन्म सन 15 अप्रेल 1469 में तलवंडी में हुआ था | आज सिख धर्म के अनुयायी आदरपूर्वक ननकाना साहिब कहते है | यह लाहोर से 65 किलोमीटर दुरी पर है और सिखों का तीर्थ स्थल है |

नानक जी का जन्म क्षत्रियो के वेदी वंश में हुआ था | उनके पिता कालू मेहता तलवंडी में पटवारी का कार्य करते थे | और उनकी माता तरपता देवी एक घरेलू और धार्मिक महिला थी | उनकी एक बहन भी थी जिसका नाम ननकी था | उनके नामकरण के वक्त पंडित जी ने उनकी कुंडली देख कर भवीश्य्वानी की यह बालक आगे चलकर एक बहुत महान व्यकित बनेगे और लोग इनकी पूजा करेगे | यह सुनकर उनके माता-पिता की ख़ुशी का ठिकाना न था | वह फुले न समा रहे थे या सुनकर |

जब नानक जी पांच वर्ष के हुए तो उनके पिता जी ने उन्हें विध्लय भेज दिया पड़े के लिए | पंडित गोपालजी उनके प्रथम शिक्षक थे | पंडित ब्रजनाथ शास्त्री जी न उन्हें संस्क्रत और प्राचीन शास्त्रों की शिक्षा दी | और उसके बाद नानक जी न मोलवी कुतुबुद्दीन से पह्रसी और अरबी की शिक्षा ग्रहण की |

एक कहावत है, “होनहार बिरवान के होते चिकने पात “ | नानक जी बचपन से ही विलक्षण प्रतिभा, तीक्षण और जिज्ञासु प्रवर्ती के थे | वह बचपन से ही अपने मनोभावों को प्रभावी तरीके से व्यक्त करने की अद्भुत क्षमता थी |

एक बार की बात है उनके शिक्षक ने उन्हें ॐ शब्द का उच्चारण करने को कहा | उन्होंने उच्चरण तो कर दिया परन्तु उनकी जिज्ञासा शांत न हुई और अपने गुरु से पूछ ही लिया “ओम” शब्द कर अर्थ |

नानक के मुख से यह प्रशन सुन कर जोपलदास जी महाराज चकित रहे गए | उन्होंने ने कहा, “बेटा नानक, यह दुनिया ईश्वर ने बनाई है और ईश्वर को ही ओम कहते है | ओम सभी प्राणियों का सरंक्षक है और वाही सभी की आवश्यकताओ की पूर्ति करता है “

यह बात सुनकर नानक ने कहा, गुरुदेव में ‘ओम’ को ‘सत करतार’ कह कर बुलाता हु | वही हमारा पालनहार है |

Continue reading “सिखों के पहले गुरु – गुरु नानक देव जी – Part 1” »

कोन महतवपूर्ण – इन्सान या आध्यात्म

बहुत समय पुरनी बात है एक छोटे से गाँव एक मंदिर था और उस मंदिर में एक पुजारी रहा करते थे वो सभी वेदों, पुराणों और धार्मिक ग्रंथो के ज्ञाता थे | सभी गाँव के निवासी उनका आदर सम्मान किया करते थे और सभी लोग सुबह और संध्या में उनके प्रवचन सुना करते थे | दुरे से दुरे से लोग आते थे उनको सुनने के लिए | उसका एक बेटा भी था जो उसके साथ रहता था और वह भी अपने पिता की तरह अच्छा और बुद्धिमान था | पुजारी उसे देख कर बहुत खुश होता था उसे लगता था की उसका बेटा एक दिन इसी गद्दी पर बेठ कर प्रवचन देगा |

प्राचीन मंदिर होने के कारण हर वर्ष यहाँ पर भगवान शिव की बहुत बड़े पैमाने पर पूजा होती थी और पूजा होने के बाद पुजारी जी का प्रवचन भी होता था | इस पूजा में हजारो – लाखो लोग आते थे | इस साल भी भगवान शिव की पूजा की सभी तेयारिया हो चुकी थी परन्तु पूजा वाले दिन ही पुजारी जी बहुत बीमार हो गए | वो इतने बीमार हो गए थे की उनसे उठा भी अहि जा रहा था | उन्होंने अपने बेटे को बुलाया और कहा, “बेटा, मेरी तबियत बहुत खराब है आज भगवान की पूजा और बाद में प्रवचन तुम ही करना | ये मेरा आदेश है |”

बेटे ने पिता से आज्ञा ली और पूजा के लिए चल पड़ा | संत्संग के समय, सभा में सभी उपस्तिथ लोगो के सामने खड़े होकर उन सबको सूचित किया की उसके पिता का स्वास्थ्य ठीक नहीं है जिस की वजह से वो आज का प्रवचन नहीं दे पायगे | यह सुनते ही सभी लोग चकित हो गए और आप में काना फूसी करने लगे की अगर पुजारी जी बीमार है तो आज का प्रवचन कोन करेगा | सभी सोच में थे की अचानक पुजारी के बेटे ने कहा, “कृपया करके आप लोग शांत हो जाइये, आज का प्रवचन में करुगा“ |

Continue reading “कोन महतवपूर्ण – इन्सान या आध्यात्म” »

सिख धर्म के पूर्व का इतिहास

सीख धर्म के पूर्व भारत की दशा बहुत खराब थी | तेमूर ने भारत पर हमला करके बहुत बड़ी मात्रा में सोना, चांदी लुट लिया था | और वह चाहता था की भारत के सभी लोग इस्लाम को अपना ले | लिकिन भारत में अधिकतर लोग इस्लाम को मानने के विरुद थे इसलिए तेमूर को भारत में ज्यादा न मिल सकी | बस कुछ ही लोगो ने इस्लाम को कबूल किया |

उस दोरान बहुत सी लड़ाईया हुई हिन्दुओ और मुसलमानों में | और इसी दोरान मुस्लिम संतो ने हिन्दुओ और मुसलमानों के बिच की इस खाई को पाटने की भरपूर कोशिश की | और इसी के चलते भक्ति आन्दोलन और सूफी परंपरा एक – दुसरे से काफी प्रभावित हुई | दोनों धर्मो के संतो ने बहुत कोशिश की दूरियों को दूर करने की |

और इन सबके बावजूद दोनों धर्म एक दुसरे से प्रथक रहे और कभी भी एक दुसरे के निकट नहीं आ सके | दोनों ही धर्म एक दुसरे के कटर दुश्मन बने रहे | हिन्दू धर्म में बहुत से विभिन्न प्रकार की जातिया है परन्तु इस्लाम धर्म जातियों में विश्वास नहीं रखता | मुसलमान केवल एक ही ईश्वर में विश्वास रखता है परन्तु हिन्दू धर्म में बहुत से देवी देवता है | मुसलमान हिन्दुओ को “काफिर” कहते और हिन्दू मुसलमानों को “म्लेच्छ“ कहते थे |

मुसलमानों के शासन काल में हिन्दुओ की बहुत ही बुरी दशा हो चुकी थी उन्हें दुसरे स्तर का नागरिक समझा जाता था | और हर जगह उनके साथ पक्षपात होते रहा, उनको अपमानित किया जाता था | हिन्दू किसी भी तीर्थ स्थल पर जाने से पहले कर दिया करते थे | वह न तो कोई मन्दिर बना सकते थे और न ही किसी मन्दिर की मरमत करवा सकते थे | यहाँ तक यह भी कहा जाता था की गुरु नानक के समय में पंजाब की इतनी बुरी हालत नहीं थी जिंतनी की बाकि राज्यों की |

Continue reading “सिख धर्म के पूर्व का इतिहास” »

सोनू को हुआ पश्तावा

सोनू बहुत जादा शरारती था | वह हर किसी से मजाक करता रहता था चाहे वो उसके सहपाठी हो या अध्यापक | वो किसी को भी नहीं छोड़ता था | वह हर किसी के बीच में झगड़ा करवा देता था | उसके दोस्त, माता-पिता, अध्यापक सभी के सभी प्रत्यन करते रहते थे की वो अपनी शरारते बंद कर दे, परन्तु वो किसी न सुनता था |

एक दिन, दोपहर का वक्त था, सोनू अपने दोस्तों के साथ विध्यालय से घर जा रहे थे की अचानक सोनू की नजर एक लगडे पर पड़ी जो बेसखियो के सहारे चल रहा था | उसने उसे भी नहीं छोड़ा, उसका भी मजाक उड़ाना सुरु कर दिया | उसके दोस्त ने उसको बहुत समझाया की किसी अपाहिज का मजाक नहीं उड़ाते | लेकिन सोनू नहीं रुका और चिल्लाकर बोला, “अरे ओ लगडे, तू बीच सडक पर क्यों चल रहा है | कोई गाड़ी आ कर तुझे कुचल देगी | तू तो अपने पेरो पर चल भी नहीं सकता | तू अपनी रक्षा कैसे करेगा | उसने मजाक मजाक में उस लगडे की बैसाखी को ताग मार कर नीचे गिरा दिया | यह देखा कर दुसरे दोस्त ने उस लगडे की मदद की और उसे खड़ा किया |

खड़ा होते ही वह लगडा सोनू की तरफ बात करने के लिए बड़ा | परन्तु सोनू ने सोचा की वह उसे मारना चाहता है | इसलिए वह भाग कर सडक के दुसरे किनारे पर चला गया और दूसरी और पहुचकर कर वहा से भाग गया और उसी वक्त उसकी एक कार से टक्कर हो गई | सडक पर वह बेहोश पड़ा था की वह उसी वक्त वो लगडा आ गया और उसके दोस्तों की मदद से उसे अस्पताल पहुचाया और अपना खून देकर उसकी जान बचायी |

Continue reading “सोनू को हुआ पश्तावा” »

Powered by WordPress | Free Best Free WordPress Themes | Thanks to WordPress Themes Free, WordPress Themes and Themes Directory